Google Doodle: बाबा आमटे को समर्पित आज का डूडल, जानें उनके महान काम को - NEW 2020

Entertainment,latest Movies,etc.....

Breaking News

Wednesday, December 26, 2018

Google Doodle: बाबा आमटे को समर्पित आज का डूडल, जानें उनके महान काम को

बाबा आमटे न सिर्फ एक सामाजिक कार्यकर्ता थे बल्कि उन्होंने स्वतंत्रता आंदोलनों में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और गांधीवादी जीवनशैली को अपनाया। 



आज गूगल ने कुष्ठ रोगियों के मसीहा बाबा आमटे को अपना डूडल समर्पित किया है। बाबा आमटे का पूरा नाम मुरलीधर देवीदास आमटे था। वैसे कुष्ठ रोगियों के सशक्तीकरण में उनका योगदान काफी उल्लेखनीय है लेकिन वे सामाजिक कार्यकर्ता के साथ-साथ महान स्वतंत्रता सेनानी भी थी। उन्होंने पर्यावरण संरक्षण आंदोलन में भी अहम भूमिका निभाई। धनी परिवार में जन्मे बाबा आमटे ने अपना जीवन समाज के दबे-कुचले तबकों को समर्पित कर दिया। वह महात्मा गांधी की बातों और उनके दर्शन से काफी प्रभावित हुए और वकालत के अपने सफल करियर को छोड़कर भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हो गए। बाबा आमटे ने अपना जीवन इंसानियत की सेवा में समर्पित कर दिया। बाबा आम्टे ने कुष्ठ रोग से पीड़ित लोगों की सेवा के लिए आनंदवन नाम के संगठन की स्थापना की। वह पर्यावरण संरक्षण आंदोलन जैसे नर्मदा बचाव आंदोलन से भी जुड़े हुए थे। बाबा आम्टे को उनके कल्याणकारी कार्यों के लिए कई अवॉर्ड मिले जिनमें रमन मगसायसाय अवॉर्ड भी शामिल था जो उनको 1985 में दिया गया। 


शुरुआती जीवन और शिक्षा 



बाबा आमटे का जन्म 26 दिसंबर, 1914 को महाराष्ट्र के वर्धा जिले के हिंगनघाट में हुआ था। उनके पिता का नाम देवीदास और माता का नाम लक्ष्मीबाई आमटे था। उनके पिता ब्रिटिश भारत के प्रशासन में शक्तिशाली नौकरशाह थे और वर्धा जिले के धनी जमींदार थे। परिवार के पहले बच्चे होने के नाते उनको काफी प्यार मिला। ऐसा कभी नहीं हुआ कि उन्होंने किसी चीज की मांग की हो और उनको वह चीज न मिली हो। उनके माता-पिता प्यार से उनको 'बाबा' कहकर पुकारते थे। बाद में यही नाम उनकी पहचान बन गया। बहुत ही कम उम्र में उनके पास एक बंदूक थी जिससे वह जंगली सुअर और हिरण का शिकार किया करते थे। बाद में उन्होंने एक महंगी स्पोर्ट्स कार खरीदी जिसका गद्दा चीते की खाल से बना था। 

आमटे ने वर्धा के लॉ कॉलेज से एलएलबी किया। उन्होंने अपने पैतृक शहर में वकालत शुरू कर दी जो काफी सफल रहा। 


बाबा आमटे ने 1946 में साधना गुलशास्त्री से शादी की। वह भी मानवता में विश्वास करती थीं और हमेशा बाबा आमटे की उनके सामाजिक कार्यों में मदद करती थीं। वह साधना ताई के नाम से लोकप्रिय थीं। दंपती की दो संतानें हुईं प्रकाश और विकास। दोनों डॉक्टर हैं और गरीबों की मदद करने के माता-पिता के नक्शेकदम पर चले। 

(फोटो: साभार आनंदवन) 

महात्मा गांधी का प्रभाव 



बाबा आमटे गांधी जी के सच्चे अनुयायी थे। उन्होंने महात्मा गांधी के दर्शन पर अमल किया और गांधीवादी जीवन जिया। गांधीजी की तरह ही उन्होंने समाज में नाइंसाफी के खिलाफ लड़ाई लड़ी और दबे-कुचले लोगों की सेवा शुरू की। गांधीजी की तरह ही वह सफल वकील थे जिन्होंने शुरू में वकालत में करियर बनाना चाहा लेकिन बाद में समाज कल्याण के लिए अपने जीवन को समर्पित कर दिया। उन्होंने चंद्रपुर जिले में कुछ समय तक कूड़ा बीनने वाले और सफाई करने वालों के साथ काम किया ताकि उनकी पीड़ा को समझ सकें। जब कुछ अंग्रेजों ने महिलाओं का अपमान किया तो वह निर्भय होकर उनके खिलाफ खड़े हो गए। जब यह बात महात्मा गांधी को पता चली तो उन्होंने आमटे को 'अभय साधक' का खिताब दिया। बाद में उन्होंने अपना जीवन कुष्ठ रोगियों की सेवा में समर्पित कर दिया और लोगों में बीमारी के प्रति जागरूकता लाने पर काम किया। 

भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में भूमिका 



बाबा आमटे ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में भी खुलकर भाग लिया। उन्होंने महात्मा गांधी के नेतृत्व में होने वाले लगभग सभी बड़े आंदोलनों में हिस्सा लिया। उन्होंने भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान पूरे भारत में बंद लीडरों का केस लड़ने के लिए वकीलों को संगठित किया। 

कुष्ठ रोगियों के लिए काम 


उन दिनों कुष्ठ रोगियों को समाज में काफी दयनीय हालत और सामाजिक नाइंसाफी का सामना करना पड़ता था। उनसे भेदभादव किया जाता था और समाज से निकाल दिया जाता था। कई बार उपचार और सही देखरेख नहीं हो पाने के कारण कुष्ठ रोगियों की मौत भी हो जाती थी। ये सब देखकर बाबा आमटे काफी द्रवित हुए। उन्होंने समाज में पैठ बना चुकी गलतफहमियों और गलत धारणाओं को दूर करने के लिए कमर कस लिया। उन्होंने लोगों के बीच बीमारी को लेकर जागरूकता फैलाना शुरू किया। उन्होंने कलकत्ता स्कूल ऑफ ट्रोपिकल मेडिसन में कुष्ठ रोग पर कोर्स किया। इसके बाद अपनी पत्नी, दो बेटे और 6 कुष्ठ रोगियों के साथ अपने मिशन पर क�


                        HIGHLITED                              
     ZERO movie : Download link     








No comments:

Post a Comment

your comment reply 30 minute

Recent Posts

Header Ads

Popular Posts